ऋषि सुनक पर बोले ब्रिटेन के हाई कमिश्रनर- वह हिंदू हैं पर दिल और दिमाग से हैं ब्रिटिश – india today conclave mumbai British high commissioner to India Alex Ellis NTC


India Today Conclave Mumbai: इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के मंच पर भारत में ब्रिटेन के हाई कमिश्नर एलेक्स एलिस ने भारतीय मूल के ऋषि सुनक के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत, ब्रिटेन के संबंधों से लेकर रूस-यूक्रेन युद्ध के दुनिया पर पड़ रहे प्रभाव और ब्रिटेन में विजय माल्या से लेकर नीरव मोदी जैसे भगोड़ों से जुड़े सवालों पर बात की.

ऋषि सुनक के ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने के सवाल पर भारत, ब्रिटेन के बीच संबंधों में क्या तब्दीली आएगी? उन्होंने इसके जवाब में कहा कि ऋषि ने ऐसे समय पर ब्रिटेन की बागडोर संभाली है, जब पूरी दुनिया में उथल-पुथल मची हुई है. उनका इतिहास बेशक भारत से जुड़ा है, लेकिन वह ब्रिटेन के प्रधानमंत्री हैं. 

एलेक्स ने कहा कि ऋषि सुनक पंजाबी मूड के शख्स हैं, वह हिंदू हैं लेकिन उनका दिल और दिमाग पूरी तरह से ब्रिटिश है.

ऐसे होंगे ब्रिटेन-भारत के बीच रिश्ते

एलेक्स ने कहा कि बेशक ऋषि भारतीय मूल के हैं, लेकिन वह भारत के लिए नहीं बल्कि ब्रिटेन के लिए काम करेंगे. वह ब्रिटिश पीएम हैं. भारत और ब्रिटेन दो अलग-अलग काफी हैं, दोनों में काफी अंतर हैं लेकिन दोनों मिलकर आपसी हितों के लिए काम करते रहेंगे. 

उन्होंने कहा कि भारत, ब्रिटेन की पार्टनरशिप में काफी उतार-चढ़ाव रहे हैं. इस समय दुनियाभर में जियोपॉलिटिकल उथल-पुथल मची है. माइग्रेशन पॉलिसी, ट्रेड पॉलिसी को लेकर दोनों देशों के बीच बातचीत जारी है. प्रधानमंत्री मोदी की बोरिस जॉनसन के साथ केमिस्ट्री बहुत अच्छी थी. हमें पूरी उम्मीद है कि ऋषि सुनक के साथ यह और आगे बढ़ेगी. 

यह पूछने पर कि क्या ऋषि सुनक प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत का फेवर करेंगे? इस पर एलेक्स कहते हैं कि वह ब्रिटेन के प्रधानमंत्री हैं. वह यूके के हितों के लिए करते हैं और आगे भी करेंगे. 

भारत, ब्रिटेन के बीच कब FTA करार?

भारत और ब्रिटेन के बीच फ्री ट्रेड एग्रीमेंट (एफटीए) को लेकर दोनों देशों के बीच बातचीत जारी थी और इस एग्रीमेंट के लिए दिवाली तक की डेडलाइन रखी गई थी लेकिन डेडलाइन तक यह एग्रीमेंट नहीं हो पाने की वजह के सवाल पर एलेक्स ने कहा कि इस ट्रेड डील से दोनों देशों में रोजगार की संभावनाएं उभरेंगी. हालांकि, अभी तक इसे अंतिम रूप नहीं दिया गया है. इसे लेकर कशमकश जारी है, लेकिन अभी भी बहुमत इस डील के पक्ष में है. दोनों देशों को एक-दूसरे पर भरोसा है, हम यकीनन अंतिम पड़ाव में हैं और इसे लेकर हमारा रुख पॉजिटिव है.

ब्रेवरमैन और भारतीय प्रवासियों पर उनके बयान पर क्या बोले?

लिज ट्रस सरकार में गृहमंत्री रही सुएला ब्रेवरमैन के भारतीय प्रवासियों पर दिए बयान पर काफी बवाल हुआ था.  ब्रिटेन में भारतीय प्रवासियों की संख्या लगातार बढ़ रही है. ऐसे में हाई कमिश्नर एलेक्स ने कहा कि ब्रिटेन बड़े पैमाने पर भारतीयों को वीजा देता है. यह स्टूडेंट वीजा होता है. हर साल बड़ी संख्या में भारतीय छात्र ब्रिटेन पढ़ने आते हैं. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्हें जॉब भी चाहिए. इस वजह से ब्रिटेन में उनका स्टे बढ़ जाता है. सवाल भारतीयों का नहीं है. यहां सवाल अवैध प्रवासियों (illegal Migration) का है. ब्रिटेन आने की दिक्कत नहीं है लेकिन अवैध तरीके से आने में दिक्कत है. आप ब्रिटेन आएं लेकिन यहां के नियमों का पालन करें. नियमों के तहत आएं. 

ब्रिटेन को भगौड़ों का देश नहीं बनने देंगे

भारत में ब्रिटेन के हाई कमिश्नर एलेक्स से जब पिछले कई सालों से ब्रिटेन में रह रहे भारतीय भगौड़ों विजय माल्या और नीरव मोदी को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह मामला फिलहाल अदालत में है इसलिए मैं इस पर ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा. 

उन्होंने कहा कि हम नहीं चाहते कि ब्रिटेन भगौड़ों का देश बने और इसी नाम से जाना जाए. 

रूस से भारत के तेल खरीदने पर ब्रिटेन का रुख

भारत में ब्रिटेन के हाई कमिश्नर एलेक्स से जब यह पूछा गया कि रूस, यूक्रेन युद्ध में ब्रिटेन ने डंके की चोट पर यूक्रेन का साथ दिया. लेकिन भारत ने न्यूट्रल रुख अपनाए रखा और वह लगातार रूस से कम दाम पर तेल भी खरीद रहा है. इस पर ब्रिटेन क्या सोचता है? 

इस पर एलेक्स कहते हैं कि पहले यह जानना जरूरी है कि क्या हुआ है. रूस ने एक पड़ोसी देश पर हमला बोल दिया. एक छोटा देश जो अपने शांत रहा है. उसकी टेरीटरी पर हमला करना बिल्कुल गलता है. इसका खामियाजा यूक्रेन की जनता ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया भुगत रही है. यूक्रेन में जरूरी सामानों के दाम बढ़े हैं. महंगाई आसमान छू रही है. हम निरंकुशता बर्दाश्त नहीं करेंगे. हम यूक्रेन के साथ है.  लेकिन हम भारत के फैसले पर उंगली नहीं उठा रहे. वह उनकी राय है, जिसका हम सम्मान करते हैं.

पुतिन खतरनाक गेम खेल रहे

एलेक्स का कहना है कि पुतिन खतरनाक गेम खेल रहे हैं. वह एक दिन परमाणु हमले की बात करते हैं, दूसरे दिन कहते हैं कि हम न्यूक्लियर अटैक नहीं करेंगे. उन्होंने दुनिया को युद्ध में झोंक दिया है. इस युद्ध का असर पूरी दुनिया पर पड़ा है. दुनियाभर के लोग इसका खामियाजा भुगत रहे हैं. पुतिन को समझना होगा कि यह कोई खेल नहीं है. यह गंभीर मामला है. 

एलेक्स ने कहा कि रही बात नाटो की इस पर वह क्या कर रहा है तो नाटो वही कर रहा है, जो हम कर रहे हैं. यूक्रेन कुछ गलत नहीं कर रहा. वह अपनी रक्षा कर रहा है. 

भारत अगले साल जी-20 बैठक की अध्यक्षता करने जा रहा है. इस पर एलेक्स कहते हैं कि आज के समय दुनिया कई तरह की चुनौतियों का सामना कर रही है. सभी देश आंतरिक और बाहरी सभी तरह की दिक्कतों का सामना कर रहे हैं. क्लाइमेट चेंज सबे बड़ी चुनौती है. भारत ऐसे समय में जी-20 की मेजबानी करेगा, जब दुनियाभर में उठापटक जारी है. लेकिन मेरा मानना है कि भारत की बात पूरी दुनिया सुनती है और ऐसे समय में जी-20 की मेजबानी करना, यह भारत के लिए बहुत बड़ा मौका है. भारत कई मायनों में बहुत से देशों से आगे है. 



Source link

Spread the love