कुख्यात ठग के चार खत, आरोप-प्रत्यारोप और सियासी बवाल… हैरान कर देगी इस शातिर कैदी की करतूत – Delhi Tihar Jail Conman Sukesh Chandrashekhar letter allegations revelations political ruckus BJP AAP MCD elections connections politics crime LNO


जेल में बंद महाठग सुकेश चंद्रशेखर को खत लिखने का नया-नया शौक चढ़ा है. ऐसा लगता है कि अपने इसी शौक के चलते उसने लोगों को ठगने के साथ-साथ सरकार को भी ठगने का इरादा कर लिया है. सुकेश ने खत लिखने की शुरुआत तिहाड़ के जेल कर्मियों से की और फिर वो जेलर तक पहुंचा. इसके बाद जेल मंत्री और फिर मुख्यमंत्री. अब उसी सुकेश ने जेल से एक नया और ताजा खत लिखा है, जिसमें उसने कहा है कि जब से उसने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और जेल मंत्री सत्येंद्र जैन पर इल्जाम लगाया है, तब से वहां उसकी जान को खतरा पैदा हो गया है. 
 
24 अक्टूबर 2022
जेल से महाठग सुकेश का पहला ख़त सामने आया. जिसमें उसने लिखा “मैं और जैकलीन फर्नांडीस रिलेशनशिप में हैं. इसलिए ये मेरी ज़िम्मेदारी है कि मैं अपने प्यार के साथ हमेशा खड़ा रहूं. उसने मुझसे आज तक कुछ नहीं मांगा. मैंने अगर उसे कुछ दिया है, तो इसमें उसका क्या दोष? मैं 2024 में लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा हूं. मैं चुनाव लडूंगा भी और जीतूंगा भी कोई मुझे ठग या जालसाज ना कहे वरना मैं मानहानि का केस कर दूंगा. जो लोग कह रहे हैं कि उन्हें ठग लिया गया, वो कोई स्कूल जाते बच्चे नहीं हैं. सब पढ़े लिखे और ऊंची पहुंच वाले लोग हैं.”

02 नवंबर 2022
जेल से महाठग सुकेश का दूसरा ख़त सामने आया. जिसमें वो कहता है “जेल मंत्री और आम आदमी पार्टी के नेता सत्येंद्र जैन ने मुझसे जेल में रहने के दौरान हर महीने दो करोड़ रुपये प्रोटेक्शन मनी के तौर पर मांगे थे, इसके बाद मुझे डीजी जेल संदीप गोयल ने भी डेढ़ करोड़ रुपये हर महीने के मांगे. मुझे दोनों को रुपये देने पड़े. मैंने सत्येंद्र जैन को 10 करोड़ रुपये और डीजी जेल संदीप गोयल को 12.50 रुपये दिए. इसके अलावा मैंने आम आदमी पार्टी को 50 करोड़ रुपये का चंदा दिया. उन्होंने मुझे राज्यसभा सांसद बनाने का वादा किया था.”

05 नवंबर 2022
जेल से महाठग सुकेश का तीसरा ख़त भी सामने आया जिसमें सुकेश ने लिखा “केजरीवाल जी, मैं आपसे पूछना चाहता हूं कि अगर मैं देश का सबसे बड़ा ठग हूं, तो आपने मेरे जैसे ठग को राज्यसभा सीट का ऑफर देकर 50 करोड़ रुपये क्यों लिए? मुझसे कारोबारियों को आम आदमी पार्टी से जोड़ कर 500 करोड़ रुपये जुटाने को क्यों कहा? 2016 में हयात होटल में हुई डिनर पार्टी में आप सत्येंद्र जैन के साथ मुझसे क्यों मिले? जिसके बाद मैंने आपको कैलाश गहलोत के आसोला फार्म पर 50 करोड़ रुपये दिए.”

07 नवंबर 2022
और अब जेल से महाठग सुकेश का चौथा ख़त भी आया है. जिसमें वो लिख रहा है “जब से मैंने सत्येंद्र जैन और संदीप गोयल के बारे में खुलासा किया है. मुझे जेल में लगातार जान से मारने की धमकी मिल रही है. जेल में मेरी जान को खतरा है. मैं मेरे और आम आदमी पार्टी के बीच हुए पैसों की लेन-देन की सारी जानकारी आपको दे रहा हूं. इस मामले की सीबीआई जांच की जानी चाहिए. वैसे मैं केजरीवाल और उनके मंत्री सत्येंद्र जैन से डरनेवाला नहीं हूं. मैंने अब तक जो भी जानकारियां दी हैं, वो सही है.”

जेल में बैठकर खतों की झड़ी 
महाठग सुकेश चंद्रशेखर ने जेल में बैठे-बैठे ही खतों की ऐसी झड़ी लगा दी है, जिसने बडे-बड़ों की सांसे अटका दी हैं. पिछले दो महीने में उसने जेल से एक-एक कर चार खत लिखे हैं और इन सभी के सभी खतों में एक से बढ़ कर एक खुलासे या यूं कहें कि इल्ज़ाम दर्ज हैं. इनमें तीन खत तो इसी नवंबर महीने में सामने आए हैं और इन तीनों के तीनों खत में आम आदमी पार्टी और जेल प्रशासन के खिलाफ कई संगीन इलज़ाम हैं. 

पिछले महीने मीडिया को लिखा था खत
उसके खतों के इस सिलसिले की शुरुआत तब हुई, जब उसने पिछले महीने मीडिया के नाम लिखे गए एक खत में खुद को बेकसूर बताने के साथ-साथ अपनी खास दोस्त और फिल्म एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडीज को ठगी के तमाम इल्जामों से परे और बेकसूर बताने की कोशिश की थी. लेकिन नवंबर का महीना आते-आते मानों उसने अपने सारे खतों की नोंक सीधे आम आदमी पार्टी, अरविंद केजरीवाल, सत्येंद्र जैन और जेल प्रशासन की तरफ मोड़ दी और अब हर गुज़रते दिन के साथ उसके खतों में मौजूद इल्ज़ामों की धार और तेज़ होती जा रही है.

बीजेपी और आप के बीच आरोप-प्रत्यारोप
दिल्ली में अब एमसीडी चुनावों की तारीखों का ऐलान हो चुका है. गुजरात और हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में चुनाव होने वाले हैं. ऐसे में सुकेश चंद्रशेखर के खतों की टाइमिंग को लेकर भी सवाल उठाए जाने लगे हैं. आम आदमी पार्टी के विरोधी जहां इसे सुकेश के साथ आम आदमी पार्टी की मिलीभगत करार देने में लगे हैं, वहीं आम आदमी पार्टी इन सबके पीछे सीधे-सीधे बीजेपी का हाथ होने का इल्ज़ाम लगा रही. 

सुकेश के खतों से आ रही सियासी बू
कुल मिलाकर महाठग के इन खतों ने अचानक से जैसे सियासी रस्साकशी भी तेज कर दी है. वैसा सुकेश के खतों से सियासत की बू इसलिए भी आती है, क्योंकि हाल में उसने आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल के खिलाफ़ जो तीन खत लिखे हैं, वो तीनों के तीनों खत उसने दिल्ली के लेफ्टिनेंट गर्वनर यानी उप राज्यपाल के नाम लिखे हैं और सत्ता संतुलन की थोड़ी भी जानकारी रखने वाला शख्स ये आसानी से बता सकता है कि दिल्ली में लेफ्टिनेंट गर्वनर असल में केंद्र सरकार के नुमाइंदे होते हैं और दिल्ली की सियासत में उनकी क्या हैसियत है?

सीबीआई जांच की मांग
इन खतों के सियासी मायने और इन्हें लिखे जाने की टाइमिंग के बारे में और बातें करें, आइए उससे पहले एलजी के नाम लिखे गए सुकेश चंद्रशेखर के तीसरे खत के कुछ खास हिस्सों पर एक निगाह डाल लेते हैं. इस खत में सुकेश ने एलजी से आम आदमी पार्टी और केजरीवाल पर लगाए गए इल्ज़ामों की सीबीआई जांच करवाने की मांग की है. 

50 करोड़ रुपये लेने का इल्जाम 
सुकेश ने लिखा है “अरविंद केजरीवाल ने मुझे महाठग कहा है और ट्वीट किया है कि बीजेपी इलेक्शन के चलते मुझे आगे रख रही है. ये सब बातें दरअसल मुद्दा भटकाने की कोशिश की है. जब मैं आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल को लेकर खुलासे किए हैं, मुझे धमकियां दी जा रही हैं. जेल में मेरी जान को खतरा है. ऐसे में इन इल्ज़ामों की सीबीआई जांच होनी चाहिए, ताकि सच सामने आ सके. अगर मैं महाठग हूं तो 2016 में कैलाश गहलोत के आसोला फार्म हाउस में मुझसे सत्येंद्र जैन ने 50 करोड़ रुपये क्यों लिए थे? क्यों उसी शाम केजरीवाल और जैन मुझसे बीकाजी के हयात होटल में डिनर पर मिले और साउथ इंडिया से 20-30 ऐसे लोगों को पार्टी में लाने के लिए कहा जो 500 करोड़ रुपये पार्टी को दे सकें? क्यों 50 करोड़ रुपये देने पर इतने कम समय में उन्होंने मुझे राज्यसभा के लिए नॉमिनेट करने की बात कही?”

सबूत देने का दावा
सुकेश ने अपने उस खत में अब तक कही गई बातों के हक में जरूरी सबूत देने की भी बात कही है. उसने एलजी को लिखा है, वो सबूतों के साथ एजेंसी के सामने अपनी बात रखने को तैयार है. उसने कहा है कि वो आम आदमी पार्टी और उसके नेताओं के साथ हुए एक-एक कैश ट्रांजैक्शन के बारे में बताना चाहता है. सुकेश ने खत में आम आदमी पार्टी के कर्नाटक प्रमुख को भी केजरीवाल से इंट्रोड्यूज़ करवाने का दावा किया है. 

सत्येंद्र जैन पर आरोप
उसने लिखा है “पूर्व कमिश्नर भास्कर राव को मैंने कर्नाटक में अरविंद केजरीवाल से मिलवाया, क्योंकि उनकी बेटी मेरी कॉलेज की दोस्त है और मेरे कहने पर ही भास्कर राव को कर्नाटक में पार्टी का प्रमुख बनाया गया. इलेक्शन सिंबल मामले में 2017 में मेरी गिरफ्तारी के बाद सत्येंद्र जैन मुझसे मिलने जेल आए थे और ये पूछ रहे थे कि पार्टी को 50 करोड़ रुपये देने के बारे में मैंने किसी एजेंसी को कुछ बताया तो नहीं है? उन्होंने मुझसे चतुर्वेदी के ज़रिए प्रोटेक्शन मनी के तौर पर 10 करोड़ रुपये लिए थे.”

कुल मिलाकर, ये कह सकते हैं कि सुकेश ने एलजी को लिखे अपने इस तीसरे खत में चार बिंदुओं को प्रमुखता से समने रखा है. इस खत का- 

प्वाइंट नंबर- 1
मैंने केजरीवाल के आदेश पर 7 ट्रांजैक्शन में आम आदमी पार्टी के लिए सत्येंद्र जैन को 50 करोड़ रुपये दिए. ये रुपये मेरे और मेरे सेक्रेटरी गोपीनाथ के ज़रिए कैलाश गहलोत के फार्म हाउस पर दिए गए.

प्वाइंट नंबर- 2
सत्येंद्र जैन के कहने पर साल 2019 में मैंने उनके एसोसिएट चतुर्वेदी को 10 करोड़ रुपये दिए. ये रुपये बेंगलुरु में दिए गए.

प्वाइंट नंबर- 3
सत्येंद्र जैन के कहने पर ही मैंने डीजी जेल संदीप गोयल को मॉडल टाउन के हल्दीराम और सिविल लाइंस के बीपी पेट्रोल पंप में साल 2019 से 2021 के बीच उनकी कार नंबर डीएल 1सीएडी 3009 में 12.5 करोड़ रुपये दिए. डीजी ने जिसका कन्फर्मेशन सत्येंद्र जैन को दिया.

प्वाइंट नंबर- 4
मैं इन सारी बातों की और डिटेल्ड जानकारी देने के लिए तैयार हूं. सारे सबूत मैं जांच एजेंसी को दे सकता हूं. मैं बताना चाहता हूं कि डीजी संदीप गोयल रोजाना जेल नंबर सात में बंद सत्येंद्र जैन से मिलते थे, ये जानने के लिए उन्हें सारी सुविधाएं मिल रही हैं या नहीं?

जेल में मसाज कराने का आरोप
वैसे सिर्फ इन तीन खतों में ही नहीं सुकेश ने पहले भी जेल के अधिकारियों और कर्मचारियों पर संगीन इल्ज़ाम लगाए हैं. जेल में बंद सत्येंद्र जैन को मिल रही सुख सुविधाओं को लेकर उसने शिकायत की थी और बताया था कि किस तरह सत्येंद्र जैन जेल में बैठे-बैठे आराम से मसाज करवा रहे हैं. इसके अलावा उसने जेल के कम से कम 80 अधिकारियों और कर्मचारियों का जिक्र करते हुए बताया था कि जेल में बंद रहने के दौरान ये सारे लोग नियमित रूप से उससे वसूली करते थे और पूरा का पूरा जेल किसी संगठित गिरोह की तरह काम करता था. सुकेश की शिकायत पर दिल्ली पुलिस की इकोनॉमिक ऑफेंस विंग इस मामले की पहले ही जांच कर रही है.
 

 



Source link

Spread the love