धरती के भीतर से निकली थी ये बेशकीमती चीज, दुनिया ने अब पहली बार देखा – scientists discovered New Mineral inside diamond found from Earth core Davemaoite tstf


स्टोरी हाइलाइट्स

  • हीरे के अंदर से निकला दुर्लभ खनिज
  • खोज से वैज्ञानिक भी हुए चकित

अफ्रीकी देश बोत्सवाना (Botswana) की खदान से निकले एक ऐसे खनिज (New Mineral Found) के बारे में वैज्ञानिकों को जानकारी हाथ लगी है जिसे पहले कभी नहीं देखा गया. यह खनिज एक हीरे के भीतर से निकला था. बताया जा रहा है कि ये खनिज सोना-चांदी या हीरे से भी बेशकीमती हो सकता है.

रिपोर्ट के मुताबिक, हीरा मूल रूप से दशकों पहले बोत्सवाना में Orapa खदान में पाया गया था. जिसपर हाल ही में खनिज विज्ञानी Oliver Tschauner ने शोध किया. उनके शोध के निष्कर्ष इस सप्ताह साइंस जर्नल में प्रकाशित हुए. हीरा चार मिलिमीटर चौड़ा है और महज 81 मिलिग्राम वजनी है.

इस हीरे को 1987 में एक डायमंड डीलर ने एक वैज्ञानिक को बेच दिया था. हालांकि, तब इसकी खासियत किसी को नहीं पता थी. फिलहाल अब ये हीरा कैलिफोर्निया के लॉस एंजिल्स काउंटी में स्थित नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम में रखा है, जिसपर लास वेगास स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ नेवादा के वैज्ञानिक ने शोध किया.

हीरे के अंदर से निकले इस खनिज का नाम मशहूर Geophysicist Ho-Kwang (Dave) Mao के नाम पर डेवोमाइट (Davemaoite) रखा गया है. यह खनिज पृथ्वी पर पाए जाने वाले उच्च दबाव वाले कैल्शियम सिलिकेट पेरोसाइट (CaSiO3) का पहला उदाहरण है. इसकी जांच करने वाले वैज्ञानिक भी हैरान हैं, क्योंकि हीरे के अंदर से क्रिस्टल जैसा खनिज मिला है. हीरा पृथ्वी की सतह के 660 किलोमीटर नीचे था.

पहली बार हीरे के अंदर से निकला ऐसा खनिज

CaSiO3 का एक अन्य रूप, वोलास्टोनाइट के रूप में जाना जाता है, जो आमतौर पर दुनिया भर में पाया जाता है. लेकिन Davemaoite में एक क्रिस्टलीय संरचना होती है जो सिर्फ पृथ्वी के उच्च दबाव और उच्च तापमान वाले हिस्से मैंटल में बनती है. इसके पृथ्वी के मैंटल में प्रचुर मात्रा में पाए जाने की उम्मीद है. यह भू-रासायनिक रूप से एक महत्वपूर्ण खनिज है. 

हालांकि, वैज्ञानिकों को इसके अस्तित्व का कोई प्रत्यक्ष प्रमाण कभी नहीं मिला है क्योंकि निरीक्षण के लिए सतह पर लाए जाने के कारण दबाव कम होने पर यह (डेवोमाइट) अन्य खनिजों में टूट जाता है. 

लेकिन Live Science के अनुसार, वैज्ञानिकों को हाल ही में जो हीरा मिला, जो पृथ्वी की सतह से लगभग 660 किलोमीटर नीचे मैंटल में बना था. इस हीरे के विश्लेषण से पता चला कि हीरे के अंदर धंसा अज्ञात खनिज डेवोमाइट का ही नमूना है. अंतर्राष्ट्रीय खनिज संघ ने अब इसकी एक नए खनिज के रूप में पुष्टि की है. 

नेवादा विश्वविद्यालय, लास वेगास के खनिज विज्ञानी Oliver Tschauner ने लाइव साइंस को बताया कि डेवोमाइट की खोज एक ‘आश्चर्य’ है. Tschauner के अनुसार, उन्हें जो नमूना मिला वह आकार में केवल कुछ माइक्रोमीटर था. 





Source link

Spread the love