‘पेडलर की पत्नी कही गई, बच्चों ने दोस्त खोए’ NCB के एक्शन के बाद नवाब मलिक की बेटी का खुला खत – Nawab Malik daughter Nilofer Malik open letter over her husband Sameer Khan arrested by ncb NTC


स्टोरी हाइलाइट्स

  • 13 जनवरी को एनसीबी ने समीर खान को किया था गिरफ्तार
  • समीर खान की पत्नी नीलोफर का अब फूटा गुस्सा

महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक की बेटी नीलोफर मलिक खान ने खुला खत लिखा है. इसमें उन्होंने जनवरी में एनसीबी द्वारा उनके पति समीर खान को गिरफ्तार किए जाने के बाद उनके परिवार के साथ जिस तरह का व्यवहार किया गया था, उसे ‘अन्यायपूर्ण और गैरकानूनी’ बताते हुए याद किया है. 

समीर खान को 13 जनवरी को एनसीबी द्वारा गिरफ्तार किया गया था. एनसीबी ने दावा किया कि समीर खान ने 194.6 किलोग्राम गांजा की खरीद, बिक्री की साजिश रची थी. समीर खान और 5 अन्य लोगों को इस मामले में आरोपी बनाया गया है. 

नीलोफर ने इस लेटर का शीर्षक ‘फ्रॉम द वाइफ ऑफ एन इनोसेंट, द बिगनिंग’ रखा. इसमें नीलोफर मलिक खान ने उस रात को याद किया है जब उनके पति समीर खान को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने गिरफ्तार किया था और उन्होंने उस ‘आपदा’ के बारे में बात की जिससे उनका परिवार अभी भी जूझ रहा है. 

 

उन्होंने लिखा, “मुझे स्पष्ट रूप से याद है कि यह 12 जनवरी था जब मेरे पति समीर खान को उनकी मां का फोन आया था जिसमें कहा गया था कि उन्हें अगले दिन एनसीबी द्वारा दफ्तर में बुलाया गया है. रास्ते में, जब समीर एनसीबी ऑफिस पहुंचे, तो उन्होंने देखा कि  बहुत सारी मीडिया उनके आने का इंतजार कर रही है. परेशान होकर मैंने अपना हाथ खिड़की के शीशे में मार दिया, जिससे वह मेरे पैर पर गिर गया, जिस वजह से मुझे अपने पैर में 250 टांके लगाने पड़े. वे 15 घंटे मेरे और मेरे बच्चों के लिए बहुत परेशान करने वाले थे. 

नवाब मलिक की बेटी ने यह भी आरोप लगाया कि उसके पति की गिरफ्तारी के पीछे और भी बहुत कुछ है. उन्होंने दावा किया कि कोई ठोस सबूत न होने के बावजूद समीर को गिरफ्तार किया गया. इससे हमें काफी चोट पहुंची. तब हमें महसूस हुआ कि यह व्यक्तिगत तौर पर समीर से अधिक है. नीलोफर ने दावा किया कि उनके पति सबूतों के अभाव में भी महीनों तक जेल में रखा गया. 

नीलोफर ने आगे लिखा, अगले दिन मुझे सिक्योरिटी गार्ड से फोन आया कि हमारे दरवाजे पर एनसीबी अफसर आए हैं, वे हमारे घर और दफ्तर की तलाशी लेना चाहते हैं. जब तक मैं वहां पहुंची, वे हमारे दफ्तर में घुस चुके थे क्योंकि गार्ड के पास एक अतिरिक्त चाबी थी. नीलोफर खान ने दावा किया कि सामान को इधर-उधर फेंकने और दोनों जगहों की अच्छी तरह से जांच करने के बाद उन्हें कुछ भी नहीं मिला.

नीलोफर ने आरोप लगाया कि हमारे परिवार को ‘बहिष्कृत’ किया गया. हमारे लिए “पेडलर की पत्नी’ और ‘ड्रग तस्कर’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया. हमारे बच्चों ने दोस्त खो दिए. नीलोफर ने ट्वीटर पर इस खुले पत्र को शेयर किया. 

 





Source link

Spread the love