बरेली में जीआरपी सिपाही और 3 अन्य को पुलिस ने भेजा जेल, गैंगरेप और हत्या का शक – Police jail GRP constable and 3 others in UP on suspicion of gang rape and murder lcls


उत्तर प्रदेश के चंदौसी संभल जिले में में खाकी वर्दीधारी रक्षक ही रेप और हत्या के आरोपी निकला है. पुलिस ने इस मामले में जीआरपी के सिपाही सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. वर्दी को शर्मसार करने वाली यह घटना 29 जून की है. 

बरेली-अलीगढ़ पैसेंजर के दिव्यांग कोच में एक युवती का शव मिला था. तब आशंका जाहिर की गई थी कि गैंग रेप करने के बाद लड़की की हत्याकर लाश को ट्रेन में रख दिया गया था. इस पूरे हत्याकांड की जांच के दौरान सीडीआर से शक की सुई जीआरपी पुलिस के एक सिपाही पर आकर टिकी. 

बॉडी से मिले थे चार व्यक्तियों के सीमन सैंपल 

दरअसल, चंदौसी रेलवे स्टेशन पर बरेली-अलीगंज पैसेंजर ट्रेन में 23 साल की युवती की लाश बरामद होने के पोस्टमार्टम कराया गया था. लड़की की बॉडी से कई व्यक्तियों के सीमन सैंपल बरामद हुए थे. यानी महिला के साथ एक से अधिक पुरुषों ने सामूहिक बलात्कार किया था. 

इसके बाद महिला की हत्या करके शव को ट्रेन के कोच में रख दिया गया था. हालांकि, अभी तक पुलिस इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंची है कि हत्या और बलात्कार की घटना ट्रेन में हुई या किसी दूसरी जगह घटना को अंजाम देकर लाश ट्रेन में रख दी.

सिपाही से लड़की की होती थी बातचीत 

पुलिस ने बताया कि लड़की बरेली की एक प्राइवेट कंपनी में काम करती थी. उसके साथ कंपनी में एसआर राजपूत और अवधेश नाम के दो लोग भी काम करते थे. साथ ही इस्तियाक नाम का कारपेंटर भी लड़की का दोस्त था. कुछ महिलाओं ने लड़की शव 29 जून को दिव्याग कोच में को देखने के बाद शोर मचाना शुरू किया. 

इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर कानूनी प्रकिया शुरू की. लड़की की कॉल डिटेल्स और सीडीआर से पता चला कि सिपाही नीरज की बात लड़की से होती थी. इसलिए भी शक की सुई उस पर आकर रुक गई क्योंकि इस वारदात के दौरान जीआरपी सिपाही की तैनाती इन्हीं ट्रेनों के रूट पर रहती थी. 

जल्द होगी सिपाही की बर्खास्तगी की कार्रवाई 

अब सीमन सैंपल की जांच भी शुरू हो चुकी है. जल्द ही सिपाही के सीमन सैंपल की रिपोर्ट आने के बाद उसकी बर्खास्तगी की विभागीय कार्रवाई भी शुरू कर दी जाएगी. जांच में सामने आया कि सिपाही नीरज की मृतका के साथ गहरी दोस्ती थी. मगर, परिजनों ने शुरुआत में साथी कर्मचारी अवधेश पर शक जताया था. 

हालांकि, सीडीआर ने सिपाही को मुख्य अभियुक्त के कटघरे में खड़ा कर दिया. इस पूरे घटनाक्रम के सामने आने के बाद रेलवे जीआरपी में हड़कंप मचा हुआ है. दरअसल, ऐसा पहली बार सामने आया है कि जीआरपी के सिपाही पर महिला के साथ इस बर्बरता घटना को अंजाम देने के आरोप हैं.  

एसपी ने सिपाही को सस्पेंड करके भेजा जेल 

इस घटनाक्रम में शक की सुई जीआरपी के सिपाही और 3 अन्य पर आकर टिकी. आनन-फानन में एसपी अर्पणा गुप्ता ने सिपाही को तत्काल सस्पेंड करने के बाद जेल भेजा दिया है. साथ ही परिजनों के बयान के आधार पर 3 अन्य लोगो को भी जेल भेज दिया. उन्होंने कहा कि महिला संबंधित अपराधों में हमारी जीरो टॉलरेंस की नीति है.

इसके साथ ही डीएनए सैंपल लेकर मामले की जांच शुरू कर दी गई है. इस पूरे घटनाक्रम में कितने व्यक्ति शामिल हैं, इसकी जांच के आदेश भी एसपी जीआरपी रेलवे ने दे दिए हैं. कमेटी का गठन हो चुका है अधिकारियों का दावा है कि जल्द ही घटना का खुलासा कर आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी.



Source link

Spread the love