मोहब्बत का कत्ल, लाश के 20 टुकड़े… हर दिन अपने गुनाहों के सबूत मिटाता था आफताब – mumbai couple live in relationship marriage pressure girlfriend murdered body parts accused arrested revelations destroyed evidence inside story delhi police crime LNO


दिल्ली की खूनी प्रेम कहानी का अंजाम हर किसी को दहला रहा है. इस मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं. जांच में पता चला है कि आरोपी आफताब अमीन पूनावाला ने अपनी महबूबा का कत्ल करने के बाद सारे सबूत मिटाने की तैयारी कर रखी थी. वो मर्डर करने के बाद हर दिन सबूतों को मिटा रहा था. उसने एक-एक कर तमाम सबूतों को खत्म कर दिया था. यहां तक कि उसने मौका-ए-वारदात यानी अपने फ्लैट को भी केमिकल से धोया था, ताकि खून के निशान कहीं बाकी ना रहें. 

बड़ी सफाई से मिटाए सबूत
आफताब अमीन पूनावाला ने जिस तरह से अपनी प्रेमिका को मौत के घाट उतारा है, उसे जानकर पुलिस भी सकते में है. क्योंकि उस शातिर कातिल ने केवल कत्ल के बाद लाश को ठिकाने ही नहीं लगाया, बल्कि बेहद शातिराना अंदाज में सबूतों को भी खुर्द-बुर्द कर दिया. जानकारी के मुताबिक आरोपी ने अपने कमरे में फैले खून को किसी केमिकल से पूरी तरह साफ कर दिया था. यहां तक कि वो अपना फ्रिज भी कई बार केमिकल से साफ कर चुका था. यही वजह है कि पुलिस ने फ्रिज बरामद तो कर लिया लेकिन उस फ्रिज में खून का एक भी धब्बा नहीं था.

श्रद्धा की छाती पर बैठ गया था आरोपी
असल में अब पुलिस और फोरेंसिक टीम को इस खौफनाक कत्ल से जुड़े सबूत जुटाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी है, क्योंकि दोनों जगहों पर ब्लड का कोई स्टेन मौजूद नहीं था. छानबीन और पूछताछ में पता चला है कि वारदात के दिन यानी 18 मई 2022 को जब आफताब और श्रद्धा का झगड़ा हुआ था, तो अफताब श्रद्धा की छाती पर बैठ गया था और फिर उसने अपनी प्रेमिका का गला दबा दिया था. जिससे उसकी मौत हो गई थी.

मुंबई के वसई इलाके में है श्रद्धा का घर
पुलिस के मुताबिक, श्रद्धा मुंबई के वसई इलाके में संस्कृति बिल्डिंग में 5वें फ्लोर पर अपने पिता और भाई के साथ रहती थी. श्रद्धा के पिता का Inverter का बिजनेस है. वसई में ही श्रद्धा की पहचान आफताब पूनावाला से हुई थी. पूनावाला से हुई दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदल गई. घरवाले इस बात का विरोध करने लगे. इसी कारण आफताब और श्रद्धा घर से अलग नया गांव में लिवइन रिलेशनशिप में रहने लगे.

घरवालों के डर से दिल्ली आए थे दोनों
लेकिन वहां उन्हें घरवालों का डर सता रहा था. लिहाजा, वे दोनों अपने आप को असुरक्षित मानकर दिल्ली आकर रहने लगे. अब कुछ दिनों से श्रद्धा का फोन और सोशल मीडिया अकाउंट बंद था. इसी कारण उसके पिता ने पुलिस को मिसिंग कम्प्लेंट की थी. दोनों की आखिरी लोकेशन मानिकपुर पुलिस की हद में आती थी. बताया जा रहा है कि मानिकपुर में ही दोनों साथ रहा करते थे.

छतरपुर में किराए पर रहते थे आरोपी और श्रद्धा
बाद में दोनों दिल्ली शिफ्ट हुए और छतरपुर में किराए का मकान लेकर रहने लगे थे. मगर आए दिन उनके बीच झगड़े होते थे. जिस कारण आफताब ने श्रद्धा का खून कर डाला और उसे छिपाने के लिये उसने फ्रीज खरीदा था और जिसमें उसने लाश के टुकड़े रखे थे.

दिल्ली पुलिस ने दी यह जानकारी
दिल्ली पुलिस ने बताया कि दक्षिण जिले के महरौली थाने में एक आरोपी आफताब अमीन पूनावाला को एफआईआर संख्या 659 के तहत गिरफ्तार किया गया है. उसके खिलाफ यह मुकदमा 10 नवंबर 2022 को आईपीसी की धारा 365/302/201 के तहत दर्ज किया गया था. 

ऐसे दर्ज हुआ मामला
मुंबई के थाना मानिकपुर पुलिस ने 8 नवंबर 2022 को दिल्ली के थाना महरौली को सूचना दी थी कि एक लापता लड़की छतरपुर पहाड़ी में एक व्यक्ति आफताब अमीन पूनावाला के साथ रह रही थी. लेकिन वो वहां से लापता हो गई. इसी वजह से थाना महरौली पुलिस ने 9 नवंबर 2022 को एक गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज की थी. इसके बाद लापता लड़की के परिवार वालों से संपर्क किया गया और जानकारी ली गई.

पिता ने दर्ज कराई थी गुमशुदगी 
14 नवंबर 2022 को लड़की के पिता ने अपना बयान देते हुए बताया कि उनके बेटे को उनकी बेटी के एक दोस्त ने सूचित किया कि पिछले 2.5 महीनों से श्रद्धा के साथ कोई संपर्क नहीं हो रहा था और उसका मोबाइल फोन भी बंद था. इसके बाद लड़की के पिता ने अपनी बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट महाराष्ट्र के मानिकपुर थाने में दर्ज कराई थी. उनके बयान के आधार पर एक एफआईआर नंबर- 659/2022 महरौली थाने में दर्ज कर जांच की गई,

पुलिस ने ऐसे लिया एक्शन
मामले की संवेदनशीलता और घटना की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए त्वरित कार्रवाई के लिए एक टीम का गठन किया गया है. जांच के दौरान आरोपी आफताब अमीन पूनावाला के खिलाफ अभियान शुरू किया गया. इसके बाद पुलिस टीम ने गली नंबर 1, छतरपुर पहाड़ी में छापेमारी की. जहां वे दोनों रह रहे थे. मोबाइल नंबर तकनीकी सर्विलांस पर लगाए गए. 

ऐसे पकड़ में आया आरोपी पूनावाला
इसके अलावा टीम ने आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला. लोकल सोर्स और खुफिया जानकारी एकत्र की गई. आरोपी आफताब के बारे में जानकारी मिली, जिसे और डेवलेप किया गया और पुलिस आरोपी आफताब अमीन पूनावाला तक जा पहुंची और उसे गिरफ्तार कर लिया.

हिल स्टेशन भी गए थे दोनों 
लगातार पूछताछ के दौरान आरोपी आफताब अमीन पूनावाला ने खुलासा किया कि वो और श्रद्धा साल 2019 से ही लिव-इन रिलेशन में थे. वे मूल रूप से मुंबई के रहने वाले हैं. उसी साल वे दोनों किसी डेटिंग ऐप के जरिए एक-दूसरे से मिले थे, तभी से वो साथ थे. उनका बहुत बार झगड़ा होता था. इस बीच वे दोनों घूमने के लिए मार्च और अप्रैल के महीने में एक हिल स्टेशन पर भी गए थे. 

दिल्ली में किया मर्डर
इसके बाद, उन्होंने दिल्ली में रहने का फैसला किया. घटना वाले दिन आरोपी ने श्रद्धा की गला दबाकर हत्या कर दी. फिर आरोपी ने उसकी लाश को काटा और कई हिस्सों में बांटकर और उन्हें कई दिनों में धीरे-धीरे ठिकाने लगाया. इस खौफनाक खुलासे के बाद ही गुमशुदगी के इस मामले में हत्या की धारा यानी आईपीसी की धारा 302 भी तरमीम की गई. 

शातिर कातिल आफताब अमीन पूनावाला की उम्र 28 साल है. उसके पिता का नाम अमीन पूनावाला है. ये अद्वितीय पार्क, न्यू दीवान मैन, वसई, पश्चिम मुंबई के रहने वाले हैं. अब पुलिस उसकी निशानदेही पर लाश के अवशेषों को छतरपुर इलाके से बरामद करने की कोशिश कर रही है. इस केस में आगे की जांच जारी है. 

 



Source link

Spread the love