‘हाथी’ पर सवार होते ही सपा पर बरसे इमरान मसूद, सिर्फ BSP को बताया BJP का विकल्प – BSP leader Imran Masood targeted Samaj samajwadi party ntc


बहुजन समाज पार्टी का दामन थामते ही इमरान मसूद समाजवादी पार्टी पर निशाना साधना शुरू कर दिया है. बुधवार को इमरान मसूद ने आजतक से कहा कि उत्तर प्रदेश में दलित-मुस्लिम गठबंधन की इसलिए जरूरत है, क्योंकि मुसलमानों ने अपना सब कुछ अखिलेश के साथ दांव पर लगा कर देख लिया कि वह बीजेपी को हरा नहीं सकते. जब-जब मुसलमानों ने सपा को मजबूत किया है, तब-तक बीजेपी मजबूत हुई है और जब-जब मायावती को मजबूत किया है तब बीजेपी कमजोर हुई है.

इमरान मसूद ने कहा कि मायावती ने उनके पार्टी जॉइन करते ही उन्हें इतना बड़ा तोहफा दिया कि उन्हें पश्चिमी उत्तर प्रदेश का संयोजक बना दिया. दलित और मुस्लिम का नाम तो नहीं लिया, लेकिन साफ कहा कि गरीब पिछड़े और मुस्लिम अगर एक साथ आ गए तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी को हराया जा सकता है.

इमरान मसूद ने कहा कि वे एक मकसद के साथ समाजवादी पार्टी में आए थे. उन्होंने कहा कि हमारे (मुसलमानों के) वोट का बंटवारा ना हो, इसलिए हम लोगों ने एकतरफा समाजवादी पार्टी को वोट दिया. समाजवादी पार्टी को वोट देने के बाद भी उन जगहों पर सपा जीत नहीं सकी जहां हम थे. हमें समझ में आया कि यह तो हवा का बुलबुला है.

यह भारतीय जनता पार्टी की एक साजिश थी. इस साजिश में यह बात थी कि अगर बहुजन समाज पार्टी को इतना वोट मिल गया तो दो तिहाई की सरकार उत्तर प्रदेश में बन जाएगी और इस छलावे में हम भी आ गए. अब जब आंख खुली है तो तस्वीर दूसरी है. अगर हमें एक विचारधारा के साथ लड़ना है तो विचारधारा के साथ एक मजबूत आधार चाहिए और वह आधार बहुजन समाज पार्टी के अलावा किसी में नहीं है.

उन्होंने आगे कहा कि निश्चित तौर पर बसपा के साथ अपना आधार वोट है. वही लड़ सकती है. वही विकल्प है. मुझे जो जिम्मेदारी बहनजी ने दी है. मैं अपनी जिम्मेदारी निभा लूंगा. उनके भरोसे पर खरा उतरुंगा. 

इमरान मसूद ने आगे कहा कि जितने वोट हम लोगों ने समाजवादी पार्टी को दिए. उतने वोट हम लोग बहुजन समाज पार्टी में डाल देते तो दो तिहाई बहुमत की सरकार उत्तर प्रदेश में होती. सपा को एकतरफा वोट हम दे चुके हैं, लेकिन सपा इससे ऊपर नहीं जाएगी. उन्होंने आगे कहा कि इतिहास गवाह रहा है कि जब-जब बहुजन समाज पार्टी मजबूत हुई है तब भाजपा कमजोर हुई है. लेकिन समाजवादी पार्टी जब-जब मजबूत हुई है, उससे भाजपा मजबूत हुई है.



Source link

Spread the love